Uncategorized

बीज और उसका महत्व

Posted on:

अनाज के दाने का आधा अथवा आधे से अधिक वह भाग जिसमें भ्रूण अवस्थित हों, जिसकी अंकुरण क्षमता अच्छी हो एवं जो भौतिक एवं आनुवांशिक रूप से शुद्ध […]