Top
सफेद जेली फफूंद / सिल्वर इयर खुम्ब उत्पादन – Kisan Suvidha
11260
post-template-default,single,single-post,postid-11260,single-format-standard,theme-wellspring,mkdf-bmi-calculator-1.0,mkd-core-1.0,woocommerce-no-js,wellspring-ver-1.2.1,mkdf-smooth-scroll,mkdf-smooth-page-transitions,mkdf-ajax,mkdf-blog-installed,mkdf-header-standard,mkdf-sticky-header-on-scroll-down-up,mkdf-default-mobile-header,mkdf-sticky-up-mobile-header,mkdf-dropdown-slide-from-bottom,mkdf-search-dropdown,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

सफेद जेली फफूंद / सिल्वर इयर खुम्ब उत्पादन

सफेद जेली फफूंद

सफेद जेली फफूंद / सिल्वर इयर खुम्ब उत्पादन

सफेद जेली फफूंद

  • इसके औषधी एवं स्फूर्तिवर्धक गुणों के लिए लंबे समय से चीन में प्रसिद्ध।
  • भारत में सफेद एवं पीले स्पीशीज़ पाए गए हैं।

वैज्ञानिक नाम: ट्रेमेल्ला फ्यूसिफोरमिस

सामान्य नाम: सफेद जेली फफूँद, सिलवर इयर खुम्ब

सबस्टेट : पाॅलिथीन थैलियों में बुरादों पर उगाया जा सकता है।

खेती का वातावरण्

प्रतिमान स्पान-रन्निंग खुम्ब-विकास
तापमान 23-25°से. 23-25°
आपेक्षेक आर्द्रता 85-90%
प्रकाश आवश्यक नहीं  08-10 घंटों तक*
वायु प्रवाह 05-07 प्रति घंटा
अवधि 07-15 दिन 05-07 दिन**

 

*बिखरे प्रकाशए  **थैली को खोलने के बाद

फसल चक्र – 2-3 हफ़्ते (2 या 3 माँसल भाग)

उगाए जानेवाले प्रमुख क्षेत्र

विश्व: चीन एवं ताइवान

भारत: तकनीकी के अभाव में अभी तक इसकी खेती प्रारंभ नहीं की गई। भारत के पश्चिमी घाट, अंडमान द्वीपसमूहों और सिक्किम के जंगलों में पाए गए हैं।

 

 

Source-

  • Indian Institute of Horticulture Research

No Comments

Sorry, the comment form is closed at this time.

Show Buttons
Hide Buttons