Top
मीठी ज्वार: जैव-ईधन का महत्वपूर्ण स्त्रोत – Kisan Suvidha
5610
post-template-default,single,single-post,postid-5610,single-format-standard,theme-wellspring,mkdf-bmi-calculator-1.0,mkd-core-1.0,woocommerce-no-js,wellspring-ver-1.2.1,mkdf-smooth-scroll,mkdf-smooth-page-transitions,mkdf-ajax,mkdf-blog-installed,mkdf-header-standard,mkdf-sticky-header-on-scroll-down-up,mkdf-default-mobile-header,mkdf-sticky-up-mobile-header,mkdf-dropdown-slide-from-bottom,mkdf-search-dropdown,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

मीठी ज्वार: जैव-ईधन का महत्वपूर्ण स्त्रोत

मीठी ज्वार

मीठी ज्वार: जैव-ईधन का महत्वपूर्ण स्त्रोत

सामान्य ज्वार की भांति मीठी ज्वार की खेती की जाती है । प्रति इकाई अधिकतम उत्पादन के  लिए किसानो  को  अग्र प्रस्तुत उन्नत सस्य विधियो  का अनुशरण करना चाहिए ।

 

जलवायु

मीठी ज्वार उष्ण जलवायु  की फसल है। इसकी खेती के लिए मैदानी  क्षेत्र अधिक  उपयुक्त होते है परन्तु इसे समुद्र तल से लगभग 900 मी. की ऊँचाई तक उगाया जा सकता है। बीज अंकुरण के लिए न्यूनतम तापक्रम 7-10 डि. से. होना चाहिए। पौधों की बढ़वार के लिए 26-30 डि.से. तापक्रम अनुकूल माना गया है। इसकी खेती के लिए 50-60 सेमी. वार्षिक वर्षा उपयुक्त होती है। ज्वार को मक्का से कम पानी की आवश्यकता होती है ।

ज्वार की फसल में सूखा सहन  करने की अधिक क्षमता होती है। ज्वार के पौधो  की यह एक बड़ी विशेषता होती है कि जीवन-काल में सूखा  पड़ जाने पर इसकी वृद्धि रूक जाती है परन्तु उपयुक्त मौसम मिलते ही यह फिर तेजी से बढ़ना आरम्भ कर देती है । इसी बजह से इसे ऊँट फसल  भी कहते है । अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में परागण  के समय वर्षा अधिक होने से परागकण बह जाने की सम्भावना रहती है जिससे इन क्षेत्रों में ज्वार की पैदावार कम आती है। यह एक अल्प प्रकाशपेक्षी पौधा  है। ज्वार की अधिकांश किस्मों में फूल तभी आते हैं जबकि दिन अपेक्षाकृत छोटे होते है। नवीन विकसित संकर  किस्मो  पर दिन के छोटे या बड़े होने का कोई विशेष प्रभाव नहीं पड़ता ।

 

भूमि का चयन एवं खेत की तैयारी

ज्वार की फसल सभी प्रकार की मृदाओं यथा भारी और  हल्की मिट्टियां, जलोढ, लाल या पीली दुमट और  यहां तक कि रेतीली मिट्टियो  में भी उगाई जाती है, परन्तु इसके  लिए उत्तम जल निकासयुक्त चिकनी दोमट भूमि  सर्वोत्तम होती है। असिंचित अवस्था में अधिक जल धारण क्षमता  वाली मृदाओं में ज्वार की पैदावार अधिक होती है।  ज्वार की फसल 6.0 से 8.0  पी. एच. वाली मृदाओं में सफलतापूर्वक उगाई जा सकती है।पिछली फसल की कटाई  करने के  बाद मिट्टी पलटने वाले हल  से खेत की 15-20 सेमी. गहरी जुताई करनी चाहिए। इसके बाद 2-3 बार हैरो या 4-5 बार देशी हल चलाकर मिट्टी को भुरभुरा  कर लेना चाहिए। बोआई से पूर्व पाटा चलाकर खेत को समतल कर लेना चाहिए।

मीठी ज्वार की किस्में

मीठी ज्वार के  तने मीठे व रशीले होते है जिससे 40 टन प्रति हैक्टर तक तने प्राप्त होते है ।  उन्नत किस्मो में सबसे पहले एस. एस.वी.-84 किस्म राष्ट्रीय स्तर पर जारी की गई है । एसएसव्ही-53,एसएसव्ही-96 व एसएसव्ही-84 उन्नत किस्में है। इसके अलावा बी.जे.-248, आर.एस.एस.वी.-9, एन.एस.एस.वी.-208, एन.एस.एस.वी.-255 तथा आर.एस.एस.वी.-56 किस्में भी मीठी ज्वार की खेती के  लिए जारी की गई है । यह सभी  किस्में 100-110 दिन में तैयार हो  जाती है ।

सारणीः मीठे ज्वार की प्रमुख उन्नत किस्मो  की उपज एवं गुणों  का तुलनात्मक अध्ययन

 प्रमुख किस्में   तना उपज (ट/ है.)  शर्करा (ट/ है)  रस(कि.ली./ है.)  रस प्रति. इथेनाल (ली./ है) दाना(ट/ है.)
 एस.एस.वी.-74

1.5-2.0

  40-42   2.77  15-18  40-45   1100
 एस.एस.वी.-64

1.0-1.5

   35-40  1.66  12-18  40-45  1000
 सी.एस.वी19 एस.एस.

0.8-1.0

  35-40   1.59  10-16   32-36   1000
 सी.एस.वी. 19 एस.एस.

1.0-1.5

 40-45   2.14  13-18  35-40  1134

स्त्रोतः ज्वार अनुसधान अनुसंधान निदेशालय, हैदराबाद

 

मीठी ज्वार की बुवाई का समय

सामान्यत: मीठे तने वाले ज्वार की बुवाई खरीफ ऋतु में ही की जाती है परन्तु सिंचाई की सुविधा होने पर इसे रबी और  जायद(ग्रीष्मकाल) में भी सफलतापूर्वक उगाया जा सकता है । खरीफ मौसम में मानसून आगमन के  तुरन्त पश्चात (जून के  प्रथम पखवाड़े से जुलाई के  प्रथम सप्ताह तक) बुवाई सपन्न कर लेना चाहिए । बुवाई का इस तरह समायोजित करें जिससे फूल आते समय वर्षा न हो  । रबी फसल की बुवाई सितंबर के  अंतिम सप्ताह से लेकर अक्टूबर के अंतिम पखवाडे़ तक करना लाभप्रद रहता है । बुवाई के  समय रात्रिकालीन तापक्रम 15 डिग्री. से.ग्रे. से ऊपर होना चाहिए । कम तापक्रम पर बीजांकुरण प्रभावित होता है । ग्रीष्मकालीन फसल की बुवाई 15 जनवरी से 15 फरवरी तक की जा सकती है ।

बीज दर एवं बुवाई

अधिकतम उपज के  लिए खेत में प्रति इकाई ईष्टतम संख्या स्थापित होना आवश्यक है । मीठी ज्वार की बुवाई हमेशा कतार विधि से ही करना चाहिए । प्रति हैक्टर 8-10 किग्रा. बीज पर्याप्त रहता है । बुवाई हल के  पीछे पोरा विधि या सीड ड्रिल से की जा सकती है । बुवाई कतारो  में 45-60 सेमी. की दूरी पर करें तथा पौधो  से पौधो  के  मध्य 15 सेमी. की दूरी स्थापित करें । अधिकतम पैदावार के  लिए 1.10 से 1.20 लाख पौधे  प्रति हैक्टर आवश्यक होते है । अधिक पौधे (सघन) होने से तनो  का विकास अवरूद्ध होता है तथा पौधे हवा से गिर सकते है । बीज 3-4 सेमी. गहराई पर बोना चाहिए। यह देखा गया है कि ज्यादा गहराई पर बोये गये बीज के बाद तथा अंकुरण से पूर्व वर्षा होने से भूमि की ऊपरी परत सूखने पर कड़ी हो जाती है जिससे बीज जमाव  अच्छा नहीं होता है। भूमि में पर्याप्त नमी होने की स्थिति में उथली बोआई सर्वोत्तम पाई गई है।
बोआई से पूर्व बीज को कवकनाशी रसायनो  से उपचारित करके ही बोना चाहिये जिससे बीज जनित रोगों से बचाव किया जा सके। संकर ज्वार का बीज पहले से ही उपचारित होता है, अतएव उसे फिर से उपचारित करने की आवश्यकता नहीं पडती। अन्य किस्मो  के  बीज को  बोने से पूर्व फंफूदनाशक दवा थायरम 3 ग्राम प्रति किलो ग्राम बीज की दर से उपचारित करें। फफूँद नाशक दवा से उपचार के उपरांत एवं बोनी के पूर्व एजोस्प्रिलिम एवं पी.एस.बी. कल्चर का उपयोग 10 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज के हिसाब से अच्छी तरह मिलाकर किया जाना चाहिए। कल्चर के उपयोग से ज्वार की उपज में वृद्धि होती है। उपचारित बीज को धूप से बचाकर रखें तथा बुवाई शीघ्रता से कर देनी चाहिए। दीमक के प्रकोप से बचने के लिए क्लोरपायरीफाॅस 25 मिली. दवा से प्रति किग्रा. बीज शोधित कर बोआई करना चाहिए।

पौध  विरलीकरण एवं खाली स्थानो  की पूर्ति

खेत में ईष्टतम पौध संख्या तथा उचित बढवार व विकास के  लिए पौधो  का विरलीकरण अति आवश्यक होता है । बुवाई से 20-22 दिन बाद पहली निंदाई-गुड़ाई के  समय पौध  विरलीकरण कार्य किया जाता है । इसके  लिए कतारो  में 15 सेमी. की दूरी पर प्रति स्थान एक पौधे को छोड़कर शेष को  उखाड़ देना चाहिए । कतारो  में रिक्त स्थानो  (जहाँ पौध का जमाव नहीं) पर उखाड़े गये पौधो  की रोपाई करना आवश्यक है। विरलीकरण के  20-25 दिन बाद यदि पौधों के  बगल से कल्ले निकलते है तो  उन्हे भूमि की सतह से काट कर अलग कर देने से मुख्य तने का संपूर्ण विकास होता है ।

खाद एवं उर्वरक

ज्वार की फसल भूमि से भारी मात्रा  में पोषक तत्वो का अवशोषण करती है । ज्वार की अच्छी उपज के लिए फसल में खाद एंव उर्वरक का प्रयोग उचित मात्रा में करना आवश्यक रहता है। दीर्घावधि तक उत्पादन में निरंतरता  बनाये रखने के लिये बिजाई से 15 दिन पूर्व कंपोस्ट या गोबर की खाद  8-10 टन प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करना लाभदायक होता है।पोषक तत्वों की सही मात्रा के निर्धारण के लिए मिट्टी की जांच कराना आवश्यक है। इसके अलावा 100-120 किग्रा. नत्रजन, 40-50 किग्रा. फास्फ़ोरस तथा 40 किग्रा. पोटाश प्रति हैक्टर की दर से देना चाहिए । नत्रजन की आधी मात्रा तथा फास्फ़ोरस व पोटाश की संपूर्ण मात्रा बुवाई के  समय खेत में कूंड़ो  में मिला देनी चाहिए । नत्रजन के  शेष भाग को  दो  समान भागो  में बांटकर दो  बार में बुवाई के  30 दिन बाद (अंतिम विरलीकरण के  बाद) तथा 45-50 दिन बाद कतारो में देना चाहिए ।

अन्तःकर्षण व खरपतवार नियंत्रण

मीठी ज्वार में बुवाई के  20-35 दिन पश्चात कतारो  के  मध्य ब्लेड हैरो  या कल्टीवेटर से जुताई करने से खरपतवारो  की ऱो कथाम होती है साथ ही जड़ो  का विकास भी अच्छा होता है और  कतारो  में मिट्टी भी चढ़ जाती है जिससे पौधे गिरने की संभावना कम हो जाती है । रासायनिक खरपतवार नियंत्रण हेतु एट्राजीन या प्रोपाजीन 0.5 से 1 किग्रा. सक्रिय अवयव प्रति हेक्टेयर अथवा एलाक्लोर 1.5 किग्रा. को  800-1000 लीटर पानी में घोलकर  बोनी के पश्चात एवं अंकुरण के पूर्व छिड़काना चाहिए। छिड़काव करते समय मिट्टी में पर्याप्त नमी होना आवश्यक है। खेत में चौड़ी पत्ती वाले खरपतवारों का अधिक प्रकोप होने पर, 2,4-डी (सोडियम लवण) 1.0-0.5 किग्रा. प्रति हे. मात्रा को 600-800 ली. पानी में घोलकर बोने के 25-30 दिन बाद छिड़काव चाहिए।

सिंचाई प्रबंधन

आमतौर  पर ज्वार की खेती खरीफ ऋतु में वर्षा आश्रित  क्षेत्रों  में की जाती है । वर्षा का वितरण समान होने पर सिंचाई की आवश्यकता नहीं होती है । असमान वर्षा की स्थिति में फसल की क्रांतिक अवस्थाओ  यथा बाली निकलते समय (बुवाई के 35-40 दिन बाद) तथा दाना बनते समय (बुवाई के  55-60 दिन बाद) खेत में नमीं की कमीं होने  पर उपज में गिरावट होती  है । अतः इन अवस्थाओ  पर सिंचाई करना आवश्यक रहता है ।

मानसून देरी से आने पर पलेवा देकर बुवाई करना चाहिए । रबी या जायद में भूमि में पर्याप्त नमी न होने की दशा में बुवाई के  तुरंत पश्चात हल्की सिंचाई करने से अंकुरण अच्छा होता है । इसके  बाद बुवाई के  15, 30, 55 एवं 80-90 दिन बाद सिंचाई करने से उपज में बढोत्तरी होती है । प्रारंभिक बढ़वार के  समय फसल में फब्वारा विधि से सिंचाई कर जल की वचत की जा सकती है ।

 

कीट सुरक्षा

 ज्वार की फसल को  कीड़ो  से बहुत क्षति होती है । अतः कीट नियंत्रण करना आवश्यक होता है । ज्वार के  प्रमुख कीट एवं उनके नियंत्रण के उपाय प्रस्तुत हैः-
1.प्ररोह मक्खी
इस कीट का प्रकोप  अंकुरण के  1-4 सप्ताह के  अन्दर होता है । समय पर बुवाई करने से प्रकोप कम होता है । इसके  नियंत्रण हेतु बुवाई के  समय कार्बोफ्यूरान (3जी) 10 किग्रा. प्रति हैक्टर या फ़ोरेट (10जी) 15 किग्रा. प्रति हैक्टर की दर से कूड़ो  में डालना चाहिए ।
2.तना छेदक
इस कीट का प्रकोप बुवाई के  15 दिन से लेकर फसल की परिपक्वता तक हो  सकता है । इसके  नियंत्रण के  लिए बुवाई  के  20-25 दिन बाद पत्तियो  के  चक्रों  में कार्बोफ्यूरान (3जी) 8-12 किग्रा. प्रति हैक्टर की दर से डालना चाहिए ।
3.एफिड
 इस कीट का प्रकोप वर्षा के  अंत में अधिक होता है । इसकी रोकथाम के  लिए मेटासिस्टाक्स 35 ईसी 1 मिली. प्रति लीटर पानी की दर से फसल पर छिड़काव करना चाहिए ।

कटाई एवं उपज

मीठी ज्वार की फसल की कायिक परिपक्वता पर भुट्टो  की तुडा़ई कर लेना उचित रहता है । इस अवस्था में ज्वार के  दानो  पर काले रंग के  धब्बे दिखने लगते है । खड़ी फसल में ब्रिक्स की मात्रा ज्ञात करके  भी कटाई के  उचित समय का पता लगाया जा सकता है । कटाई के  समय ब्रिक्स का माप 17-18 प्रतिशत होना चाहिए । ज्वार के  हरे पौधो को  जमीन की सतह से हंसिये की सहायता से काट कर पत्तियो  को  तने से अलग कर लेना चाहिए । काटे गए  तनों  को 10-15 किग्रा. के  बंडल में बांध  लेना चाहिए तथा कटाई के  24 घंटे के  अंदर रस निकलने हेतु समीप की मिल में भेज देना चाहिए । तने की उपज एवं गुणवत्ता उपयोग में लाई गई किस्मो  एवं सस्य तकनीक पर निर्भर करती है । भुट्टो को  अच्छी प्रकार सुखा कर गहाई कर दानो को  साफ कर भंडारित करें ।

ताकि सनद रहे:कुछ सरारती तत्व मेरे ब्लॉग से लेख को डाउनलोड कर बिभिन्न पत्र पत्रिकाओ और इन्टरनेट वेबसाइट पर अपने नाम से प्रकाशित करवा रहे है।  यह निंदिनिय, अशोभनीय व विधि विरुद्ध कृत्य है। ऐसा करना ही है तो मेरा (लेखक) और ब्लॉग का नाम साभार देने में शर्म नहीं करें।तत्संबधी सुचना से मुझे मेरे मेल आईडी पर अवगत करना ना भूले। मेरा मकसद कृषि विज्ञानं की उपलब्धियो को खेत-किसान और कृषि उत्थान में संलग्न तमाम कृषि अमले और छात्र-छात्राओं तक पहुँचाना है जिससे भारतीय कृषि को विश्व में प्रतिष्ठित किया जा सके।

 

Source-

  • krishiyugvarta.blogspot.in

No Comments

Sorry, the comment form is closed at this time.

Show Buttons
Hide Buttons