Top
मटर की किस्में – Kisan Suvidha
6658
post-template-default,single,single-post,postid-6658,single-format-standard,theme-wellspring,mkdf-bmi-calculator-1.0,mkd-core-1.0,woocommerce-no-js,wellspring-ver-1.2.1,mkdf-smooth-scroll,mkdf-smooth-page-transitions,mkdf-ajax,mkdf-blog-installed,mkdf-header-standard,mkdf-sticky-header-on-scroll-down-up,mkdf-default-mobile-header,mkdf-sticky-up-mobile-header,mkdf-dropdown-slide-from-bottom,mkdf-search-dropdown,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

मटर की किस्में

मटर की किस्में

मटर की किस्में

मटर की किस्में इस प्रकार है:-

१.पूसा प्रभात (डी.डी.आर. 23)

विमोचन वर्षः 2001 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः बिहार, उत्तर प्रदेश, प. बंगाल, असम

परिस्थितियांः सिंचित व बारानी अवस्थाओं के लिए

औसत उपजः 15 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः यह एक बौनी, अति शीघ्र पकने वाली(102 दिन), चूर्णीय फफूंद की प्रतिरोधी किस्म है

 

 

२.पूसा पन्ना (डी.डी.आर. 27)

विमोचन वर्षः 2001 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र (पश्चिमी उत्तर प्रदेश,हरियाणा, पंजाब, राजस्थान एवं उत्तराखण्ड)

परिस्थितियांः सिंचित व बारानी अवस्थाओं के लिए

औसत उपजः 17.7 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः यह एक बौनी, अतिशीघ्र पकने वाली (90 दिन), चूर्णीय फफूंद की प्रतिरोधी किस्म है।

 

 

३.पूसा श्री

चिन्हित वर्षः 2013 (आई.वी.आई.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः उत्तर भारत के मैदानी क्षेत्रों में अगेती बुवाई हेतु

औसत उपजः 50-52 कुन्तल/हेक्टेयर (हरी फलियां)

विशेषताएंः यह किस्म अगेती फ्युजेरियम मुरझान के प्रति प्रतिरोधी उत्तर भारत के मैदानी क्षेत्रों में सितम्बर के अन्त से अक्तूबर के प्रारम्भ तक बुवाई के लिए उपयुक्त। फलियां गहरी हरी, 6-7 दाने प्रति फली। फलियां 50-55 दिनों में तुड़ाई के लिए तैयार।

 

Source-

  • iari.res.in

No Comments

Sorry, the comment form is closed at this time.

Show Buttons
Hide Buttons