0
  • No products in the cart.
Top
मक्‍का के प्रमुख रोगों की पहचान – Kisan Suvidha
5355
post-template-default,single,single-post,postid-5355,single-format-standard,theme-wellspring,mkdf-bmi-calculator-1.0,mkd-core-1.0,woocommerce-no-js,wellspring-ver-1.2.1,mkdf-smooth-scroll,mkdf-smooth-page-transitions,mkdf-ajax,mkdf-blog-installed,mkdf-header-standard,mkdf-sticky-header-on-scroll-down-up,mkdf-default-mobile-header,mkdf-sticky-up-mobile-header,mkdf-dropdown-slide-from-bottom,mkdf-search-dropdown,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

मक्‍का के प्रमुख रोगों की पहचान

मक्का

मक्‍का के प्रमुख रोगों की पहचान

मक्‍का की फसल के रोगों की सटीक पहचान उन रोगों के नियंत्रण को आसान बनाता है । यहां प्रस्‍तुत जानकारी किसानों को मक्का रोग की पहचान समय पर और सही तरीके से करने मे सहायक हो सकती है। चि‍त्र पर क्‍लि‍क करने से चि‍त्र बडा होगा जो सही नि‍दान के लि‍ए सहायक हो सकता है।

1.मक्‍का का भूरा धब्‍बा रोग (Brown Spot disease)

मक्‍का मे इस रोग में पत्‍तों की मध्‍य शिरा, शीथ, तने व भुट्टौं के बाहरी छिलकों पर छोटे छोटे पीले धब्‍बे दिखाई देते हैं जोकि बाद में मिलकर बडे गोल भूरे रंग के हो जाते हैं।

 

2.मक्‍का का ब्राउन स्‍ट्राईप डाउनी मिल्‍डयू(Brown Stripe Downy Mildew )

इस रोग में पत्तियों की शिराओं के मध्‍य में हल्‍के हरे या पीले रंग की पट्टियॉ बनती हैं। पत्तियों की निचली सतह पर सफेद फफूंद नजर आती है। बचाव के लिए प्रति किलोग्राम बीज को 2.5 ग्राम मेटालेक्सिल से उपचारित करें|

 

3.फिलिपाईन डाउनी मिल्‍डयू(Philippine Downy Mildew )

प्रारम्भिक अवस्‍था में पत्तियों पर पीले रंग की धारियां नजर आती हैं। रोकथाम के लिए 100 लीटर पानी में 200 ग्राम मेन्‍कोजेब घोलकर छिडकाव करें।

 

4.टर्सिकम लीफ ब्‍लाइट(Turcicum Leaf Blight )

रोगी पौधे की निचली पत्तियों लम्‍बे चपटे स्‍लटी या भूरे रंग के धब्‍बे दिखाई देते हैं जो धीरे-धीरे उपर की ओर बढ़ते हैं।

 

5.बैडिड लीफ एवं शीथ ब्‍लाइट(Banded Leaf & Sheath Blight )

नाम के अनुसार इस रोग में पत्‍तों व शीथ पर चौडाई के रूख स्‍लेटी या भूरे रंग की गहरी पट्टियॉ दिखाई देती हैं। उग्र होने पर भुट्टे नष्‍ट हो जाते हैं। भूमि को छूने वाली रोगी पत्तियो को शुरू में ही तोड देने से रोग की रोकथामकी जा सकती है।

 

6.इर्वीनिया तना गलन रोग (Erwinia Stalk Rot)

पौधों की पोरियॉ पीली और फिर भूरी व चिपचिपी होकर गल जाती हैं व पौधा गिर जाता है गले हुए भाग से बदबू आती है। रोकथाम के लिए खेत में जल निकास का उचित प्रबंध करें।

 

7.मेडिस लीफ ब्‍लाईट(Maydis Leaf Blight )

पत्तियों की शिराओं के बीच में पीले भूरे अण्‍डाकार धब्‍बे बनते हैं जो बाद में लम्‍बे होकर चाकोर हो जाते हैं। इनसे पत्तियां जली हूई लगती है।

 

8.चारकोल रोट (Charcol Rot)

तने की निचली पोरियों पर काले रंग के अनेक बिन्‍दु दिखाई देतें हैं। तना चीरने पर अन्‍दर से काला नजर आता है। खेत में नमी की कमी से इस रोग की संभावना बढ जाती है

 

9.फ्यूजेरियम तना गलन रोग(Fusarium Stalk Rot )

पौधों की पोरियॉ के निचले हिस्‍से तथा जड गल जाती है। चीरने पर तना अन्‍दर से भूरा दिखाई देता है। यह रोग गर्म क्षेत्रो में होता है।

 

10.मक्‍का रस्‍ट (Maize Rust)

मांझर बनते समय अधिक नमी होने पर पत्तियों के दोनों सतहों पर गोल, लम्‍बे, सुनहरे या गहरे भूरे रंग का पाउडर बिखरा दिखाई देता है

 

11.पीथियम तना गलन रोग (Pythium Stalk Rot)

पौधों की सबसे नीचे वाली पोरी गल जाती हैं व पौधा गिर जाता है यह बीमारी पौधे की छोटी अवस्‍था मे को भी प्रभावित करती है।

 

रोग नियंत्रण
तुलासिता रोग
Downy Mildew
2.5 किग्रा जिंक मैंगनीज कार्बामेट / हैक्‍टेयर को आवश्‍यक पानी में घोलकर छिडकें।
झुलसा रोग
Blight
जिंक मैगनीज कार्बामेट 2.5 किग्रा / हैक्‍टेयर का खडी फसल में छिडकाव करें।
तना सडन रोग
Stem rot
10 ग्राम स्‍ट्रेप्‍टोसाइक्लिन या 50 ग्राम एग्रीमाइसीन या प्‍लांटोमाइसीन /हैक्‍टेयर को पानी मे घोलकर खडी फसल मे छिडकाव करें।

 

Source-

  • krishisewa.com

No Comments

Sorry, the comment form is closed at this time.

Show Buttons
Hide Buttons