Top
बैंगन की किस्में – Kisan Suvidha
6819
post-template-default,single,single-post,postid-6819,single-format-standard,theme-wellspring,mkdf-bmi-calculator-1.0,mkd-core-1.0,woocommerce-no-js,wellspring-ver-1.2.1,mkdf-smooth-scroll,mkdf-smooth-page-transitions,mkdf-ajax,mkdf-blog-installed,mkdf-header-standard,mkdf-sticky-header-on-scroll-down-up,mkdf-default-mobile-header,mkdf-sticky-up-mobile-header,mkdf-dropdown-slide-from-bottom,mkdf-search-dropdown,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

बैंगन की किस्में

बैंगन की किस्में

बैंगन की किस्में

बैंगन की किस्में इस प्रकार है:-

1.पूसा श्यामला

विमोचन वर्षः 2004 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः पंजाब, उत्तर  प्रदेश, बिहार एवं झारखंड

औसत उपजः 390 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः सीधी शाखाएं, काँटा रहित पौधा, हल्की बैंगनी रंग लिए नयी पत्तियों, फल लम्बा, चमकदार, आकर्षक, गहरा बैंगनी, फल कावजन 80-90 ग्रा., पौध रोपण के 50-55 दिनो बाद प्रथम तुड़ाई।

 

२.पूसा अंकुर

विमोचन वर्षः 1998 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश एवं महाराष्ट्र

औसत उपजः 350 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएं: फल छोटा (60-70 ग्रा.), अल्प-अण्डाकार,गहरा बैंगनी, चमकदार, पौध रोपण के 45-50 दिनों बाद प्रथम तुड़ाई।

 

३.पूसा पर्पल क्लस्टर

विमोचन वर्षः 1977 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः उत्तरी भारत के मैदानी एवं पर्वतीय क्षेत्रों के लिए

औसत उपजः 200 कुन्तल प्रति हेक्टेयर (सब्जी के लिए)

विशेषताएंः इसके फल 10-12 सं.मी. लम्बे, गहरे बैंगनी रंग वाले तथा गुच्छों में (4-9 फल प्रति गुच्छा) लगते हैं। जीवाणु मुरझान ग्रसित
क्षेत्रों के लिए उपयुक्त किस्म है।

 

४.पूसा उत्तम

विमोचन वर्षः 1997 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार एवं दिल्ली

औसत उपजः 400 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः कांटा रहित पौधा, फल थोड़ा अंडाकार, चमकदार, गहरा बैंगनी, मध्यम आकार (200-250 ग्रा.), पौध रोपण के 60 दिनों बाद प्रथम तुड़ाई।

 

५.डी.बी.एल.-02

विमोचन वर्षः 2010 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः दिल्ली, पंजाब एवं हरियाणा

औसत उपजः 382 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः गोलाकार सिरों के साथ लम्बे बैंगनी फल,प्रत्येक फल का भार 80-90 ग्राम, रोपण के55 दिन पश्चात पककर तैयार।

 

६.पूसा संकर 5

विमोचन वर्षः 1994 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः उत्तर मैदानी भाग, मध्य भारत, केरल,तमिलनाडु, कर्नाटक एवं आन्ध्र प्रदेश

औसत उपजः 520 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः पौधे सीधे, कांटा रहित, फल लम्बा, मध्यम आकार, गहरा बैंगनी, पौध रोपण के 50-55दिनों बाद प्रथम तुड़ाई।

 

७.पूसा संकर 9

विमोचन वर्षः 1997 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः गुजरात एवं महाराष्ट्र

औसत उपजः 500 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः उध्र्वमुख बढ़त वाले कांटे रहित पौधे, फल गोल, पत्ते हरे, हल्की रंगीन नयी पत्तियाँ ह्यदल पुंज, वजन 250 ग्राम, पौध रोपण के 55-60 दिनो बाद प्रथम तुड़ाई।

 

८.डी.बी.एच.एल.-20

विमोचन वर्षः 2011 (सी.वी.आर.सी.)

अनुमोदित क्षेत्रः पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश एवं बिहार

औसत उपजः 525 कुन्तल/हेक्टेयर

विशेषताएंः फल लम्बे, गहरे बैंगनी, चमकीले एवं वजन 90-100 ग्राम। पौध रोपण से पहली कटाई लगभग 55 दिन बाद।

 

Source-

  • भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान

No Comments

Sorry, the comment form is closed at this time.

Show Buttons
Hide Buttons