Top
दैनिक जीवन में सब्जियों की पौष्टिक महत्ता – Kisan Suvidha
2999
post-template-default,single,single-post,postid-2999,single-format-standard,theme-wellspring,mkdf-bmi-calculator-1.0,mkd-core-1.0,woocommerce-no-js,wellspring-ver-1.2.1,mkdf-smooth-scroll,mkdf-smooth-page-transitions,mkdf-ajax,mkdf-blog-installed,mkdf-header-standard,mkdf-sticky-header-on-scroll-down-up,mkdf-default-mobile-header,mkdf-sticky-up-mobile-header,mkdf-dropdown-slide-from-bottom,mkdf-search-dropdown,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

दैनिक जीवन में सब्जियों की पौष्टिक महत्ता

दैनिक जीवन में सब्जियों की पौष्टिक माहत्ता

दैनिक जीवन में सब्जियों की पौष्टिक महत्ता

दैनिक आहार में सब्जियों का मुख्य उद्देष्य ऊर्जा प्रदान करना, निर्माण एवं क्षतिपूर्ति तथा संरक्षात्मकता प्रदान करना हैं। ये तीनों उद्देष्यों की पूर्ति सब्जियाँ  एवं फल करते हैं।

संरक्षात्मक आहार के रूप में

दैनिक आहार में सब्जियों का प्रमुख उद्देष्य आहार के रूप में मुख्य भूमिका अदा करती हैं। संरक्षात्मक आहार में खनिज पदार्थ, विटामिन तथा प्राकृतिक औषधीय पदार्थ आते हैं जिन्हे फल एवं सबिजयाँ विपुल रूप से पूरा करती हैं। कैल्शियम – पत्तेदार सब्जियों में पर्याप्त रूप में पाया जाता हैं। लौह तत्व-पत्तेदार सब्जियाँ राजगिरी नीम की पत्ती, चने की भाजी, कच्चे आम में पाया जाता हैं। विटामिन ए – पत्तेदार सब्जियों में विशेष रूप से पाया जाता है साथ ही शरीर की सभी आवश्यकताऐ पूरी होती हैं।

औषधीय गुणों से भरपूर

फल एवं सब्जियों में आर्युवेद षास्त्र चिकित्सा पद्धति में वनस्पतियों की विशेष उपयोगिता प्रतिपादित की गई है। टमाटर – ब्रोन्काइटिस, अस्थ्मा, पित्त रोग में लाभकारी, पत्तागोभी- हृदयबलवर्धक, कफ, पित्त, त्वचा, बवासीर में लाभदायक, गाजर – हृदयबलवर्धक, पीलिया में उपयोगी लहसुन- हृदय रोगों में उपयोगी।

शरीर के शुद्धिकरण में लाभदायक

फल एवं सब्जियाँ शरीर में उत्पन्न विष को कम करती हैं। फल एवं सब्जियों का निरन्तर उपयोग शरीर को षुद्ध रखता हैं।

सस्ता एवं सुलभ आहार

पोषक तत्वों के दृष्टिकोण से प्रोटीन -मटर, बरबटी, सेम, ग्वार। कार्बोहाइड्रेट-आलू, घुइंया, शकरकंद। लौह तत्व-चने की भाजी, चैलाई, मैथी, पालक। विटामिन-ए-घुइंया की पत्ती, चैलाई आदि। इस प्रकार दैनिक आहार में सब्जियों के समावेष से सस्ती कीमत में भी संतुलित आहार लिया जा सकता हैं।

आध्यात्मिक स्वास्थ का द्योतक

आदर्ष स्वास्थ् के चार आयाम हैं- षारीरिक, मानसिक, सामाजिक एवं आध्यात्मिक। आध्यात्मिक स्वास्थ को प्राप्त करने में सब्जियों एवं फल को विशेष माहत्व दिया हैं। आध्यात्मिक स्वस्थता प्राप्त करने के लिये व्रत एवं उपवास की परम्परा हैं जिसमें फल एवं सब्जियों का उपयोग किया जाता है।

नाम प्रोटीन (ग्राम) वसा (ग्राम) कार्बोहाइड्रे ट्स (ग्राम) कैलोरी (किलो) कैल्शियम (मि.ग्रा.) फास्फोरस (मि.ग्रा.) लौह-लवण (मि.ग्रा.) विटामिन
B1

(मि.

ग्रा.)

B2

(मि.

ग्रा.)

B3

(मि.

ग्रा.)

B4

(मि.

ग्रा.)

B5

(मि.

ग्रा.)

पत्ता गोभी 1.8 0.1 4.6 27 39 44 0.18 0.06 0.09 0.4 1200 124
धनिया 3.3 0.6 6.3 44 184 71 18.5 0.05 0.06 0.8 6918 135
मैथी भाजी 4.4 0.9 6.0 49 395 51 16.5 0.04 0.31 0.8 2340 52
पालक 2.0 0.7 2.6 26 73 21 10.9 0.03 0.26 0.5 5580 28
गाजर 0.9 0.2 10.6 48 80 530 2.2 0.04 0.02 0.6 1890 3
आलू 1.6 0.1 22.6 97 10 40 0.7 0.10 0.01 1.2 24 17
करेला 1.6 0.2 4.2 25 20 70 1.8 0.07 0.09 0.5 126 88
लौकी 0.2 0.1 2.5 12 20 10 0.7 0.03 0.01 0.2 0 0
बैंगन 1.4 0.3 4.0 24 18 47 0.9 0.04 0.11 0.9 74 12
गोभी 2.6 0.4 4.0 30 33 54 1.5 0.04 0.10 1.0 30 56
फे्रंच बीन 1.7 0.1 4.5 26 50 28 1.7 0.08 0.06 0.3 132 24
शिमला मिर्च 1.3 0.3 4.3 24 10 30 1.2 0.55 0.05 0.1 427 137
भिण्डी 1.9 0.2 6.4 35 66 56 1.5 0.07 0.10 0.6 52 13
टिंडा 1.4 0.2 3.4 21 25 24 0.9 0.04 0.08 0.3 13 18
कद्दू 1.4 0.1 4.6 25 10 30 0.7 0.06 0.04 0.5 50 2
खीरा 0.4 0.1 2.5 13 10 25 1.5 0.03 0 0.2 0 7
प्याज 1.2 0.1 11.1 50 47 50 0.7 0.08 0.01 0.4 0 11
टमाटर 0.2 0.2 3.6 20 48 20 0.4 0.12 0.06 0.4 35 27
मुनगा 2.5 0.1 3.7 2.6 30 110 5.3 0.70 0.2 1.20 1.81 120

No Comments

Sorry, the comment form is closed at this time.

Show Buttons
Hide Buttons