0
  • No products in the cart.
Top
लहसुन की खेती-मध्यप्रदेश - Kisan Suvidha
8544
post-template-default,single,single-post,postid-8544,single-format-standard,mkd-core-1.0,wellspring-ver-1.2.1,mkdf-smooth-scroll,mkdf-smooth-page-transitions,mkdf-ajax,mkdf-blog-installed,mkdf-header-standard,mkdf-sticky-header-on-scroll-down-up,mkdf-default-mobile-header,mkdf-sticky-up-mobile-header,mkdf-dropdown-slide-from-bottom,mkdf-search-dropdown,wpb-js-composer js-comp-ver-4.12,vc_responsive

लहसुन की खेती-मध्यप्रदेश

लहसुन की खेती-मध्यप्रदेश

खेत की तैयारी

गहरी जुताई पश्चात् क्रास कल्टीवेटर पाटा के साथ चलाकर खेत को भुरभुरा एवं समतल बना लिया जाता है।

लहसुन की किस्में

यमुना सफेद (जी-1), यमुना सफेद – 2 (जी-50), यमुना सफेद – 4 (जी-323), यमुना सफेद -3 (जी-282)

बुवाई का समय

लहसुन बुवाई का उपयुक्त समय अक्टूबर से नवंबर होता है।

बीज की मात्रा

स्वस्थ्य एवं बड़े आकार की कलियों का 5 से 6 कि./हेबीज

उपचार

बीज की कलियों को मेन्कोजब $ कार्वेन्डिजम 3 ग्राम दवा के सममिश्रण के घोल सेउपचारित करना चाहिए।

बुवाई पद्धति

कलियों को 15 से.मी. कतार से कतार एवं 8 से.मी. पौध से पौध की दूरी पर 5 से 7 से.मीगहराई पर करे।कलियों के पतले हिस्से को ऊपर की और रखे।

खाद एवं उर्वरक

लहसुन हेतु 20 से 25 टन पकी गोबर की खाद या 5 से 6 टन वर्मीकम्पोस्ट खेत की तैयारी के समय उपयोग करे। लहसुन मे 100 कि.ग्रा. नत्रजन $ 50 कि.ग्रा. फास्फारे स+50 कि.ग्रा.पोटाश एवं 40  कि.ग्राम सल्फर के प्रति हटेयर अवश्यक होता है|इसकी प्रतिपूर्ति हेतु 175 कि.ग्रा. यूरिया, 109 कि.ग्रा. डी.ए.पी., 83 कि.ग्रा. एम.ओ.पी. एवं 4 क्वि. जिप्सम/ है उपयागे करे  यूरिया की आधी मात्रा खड़ी फसल मे  30-40 दिन बाद प्रयागे करे।

सिंचाई एंव जल निकास

बुवाई के तत्काल बाद हल्की सिंचाई करे। 10 से 12 दिन के अंतराल पर सिचाई करे परीपकव्रता के समय सिचाई देते समय विशेस ध्यान रखे|

निदाई, गुड़ाई एवं खरपतवार नियंत्रण

डोरा या हैण्डहो द्वारा 25-30 दिन एवं 45-50 दिन पर करे। रासायनिक नियंत्रण के अंतर्गत पेण्डामेंथिलीन 1 कि.ग्रा. सक्रिय तत्व अकुरण पूर्व 500 ली. पानी के साथ छिड़के। खड़ी फसल मे  आक्सीफ्लोंरोफेन का उपयागे करे।

लहसुन के कीट

थ्रिप्स के नियंत्रण हेतु इमिडाक्लोप्रिड 625 मिली. प्रति हे. या फिप्रोनिल 450 मि.ली. प्रति हे. या
थायमेथेक्झाम 100 ग्रा./हे या स्पनोंसेट 100 ग्रा./हे. के घाले का छिड़काव करे। साथ ही साथ नीला एवं
पीला चिपचिपा कार्ड लगाये।

लहसुन के रोग

१.बैंगनी धब्बा रोग

इस रोग के नियंत्रण हेतु मेंकोजेब $ कार्बेन्डिजम 2.5 ग्राम/ली. दवा के सममिश्रण का छिड़काव करे।

२.झुलसा रोग

इस रोग के नियंत्रण हेतु काॅपर आक्सीक्लोराइड 2.5 ग्राम/ली. पानी $ सेंडोविट 1 ग्राम/ली. की दर से छिड़काव करे।

खुदाई

पत्तियाॅ पीली हो जाने पर खुदाई करे। 3-4 दिनो  तक छाया मे  सुखाएं। उपज: 150 से 200 क्वि./हे.।

 

 

स्रोत-

  • कृषि विज्ञान केन्द्र

No Comments

Sorry, the comment form is closed at this time.